चंद्रयान-2 का हिस्सा बनने जा रहीं कटनी के कैमोर की मेघा, करेंगी डेटा एनालसिस, प्रदेश गौरवान्वित

वेब डेस्क। कागजों पर चांद के पार जाने की कल्पनाओं के बीच भारतीय वैज्ञानिकों ने असल में चांद के पार जाने की दिशा में कदम बढ़ा दिया है। इसरो के बाहुबली रॉकेट के कंधे पर सवार चंद्रयान-2 चांद के दक्षिणी ध्रुव के उस हिस्से पर कदम रखेगा, जहां अब तक किसी देश का यान नहीं पहुंचा है।

छह सितंबर को रचे जाने वाले उस इतिहास का गवाह बनने के रास्ते पर कदम रख दिया गया है। रविवार सुबह छह बजकर 51 मिनट पर चंद्रयान-2 की लांचिंग की उलटी गिनती शुरू हुई। 20 घंटे के काउंटडाउन के बाद सोमवार की अलसुबह दो बजकर 51 मिनट पर इसकी लांचिंग का समय निर्धारित किया गया। लांचिंग के बाद 54वें दिन चंद्रयान-2 चांद की सतह पर कदम रखेगा। इस अभियान में कटनी जिले के कैमोर में पढ़ी बढ़ीं मेघा भट्ट अहम हिस्सा बनने जा रहीं हैं जो चंद्रयान द्वारा भेजे गए डेटा का एनालसिस करेंगी। जानते हैं कौन हैं मेघा भट्ट

देश के लिए गौरव के इस क्षण के साथ कटनी के कैमोर का नाम भी अचानक सुर्खियों में आ गया है। दरअसल चंद्रयान अभियान में शामिल कैमोर में शिक्षा दीक्षा लेने वाली मेघा भट्ट इस अभियान में देश की ओर से एक बड़ी महत्वपूर्ण भूमिका निभा रही हैं। मेघा भट्ट के पिता यू एन भट्ट एसीसी कैमोर के इंजीनियरिंग इंस्टीट्यूट के डीजल सेक्सन में इंस्ट्रक्टर थे।

तब श्री भट्ट का परिवार जिसमे उनकी दो पुत्री तथा एक पुत्र कैमोर में ही रहते थे। इस दौरान मेघा कैमोर के एसीसी मिडिल स्कूल की हिन्दी माध्यम की छात्रा थीं। कैमोर मे मिडिल स्कूल की पढ़ाई के बाद हायरसेकेन्ड्री की शिक्षा भी मेघा ने कैमोर उच्चतर मा. विद्यालय में पढ़ाई की। शिक्षा में मेघा शुरू से ही मेधावी छात्रा रहीं। इसके बाद मेघा उच्चतर अध्ययन के लिए जबलपुर में पढ़ीं। इसी बीच मेघा के पिता एसीसी से सेवानिवृत्त होकर गुजरात चले गये। साथ ही उनका पूरा परिवार भी अहमदाबाद मे शिफ्ट हो गया।

जैसे ही कल चंद्रयान अभियान से जुड़ी मेघा की खबर वायरल हुई तो कैमोर में मेघा के साथ पढ़ने वाले छात्र उनके टीचर सहित कैमोर में भट्ट फैमली को जानने वाले शुभचिंतकों की खुशी का ठिकाना नहीं रहा। आज भी दिनभर मेघा की इस उपलब्धि पर कैमोर के लोग काफी गौरवान्वित दिखे। मेघा की बहन पूर्वी इंदौर में आई स्पेस्लिस्ट डाक्टर हैं। जबकि उनके भाई तरंग भट्ट गुजरात मे ही जाब पर हैं।

चंद्रयान से भेजे गये डेटा का विश्‍लेषण करेंगी मेघा
चंद्रयान अभियान में शामिल मेघा उपेन्द्र भट्ट पीआरएल अहमदाबाद में रिसर्च कर रही हैं। मेघा चंद्रयान अभियान के लिए बेहद अहम जिम्मेदारी निभाएंगी। वे चंद्रयान के द्वारा जो डेटा भेजा जाएगा उसका एनालिसिस करेंगी। इस विश£ेषण में वह यह जानने की कोशिश करेंगी के वहां पर मेग्नेट मेग्रीशियम आदि तत्व किस प्रकार के हैं इनका कितना प्रमाण है। तत्वों ने किस तरह आकार ले रखा है। शुरूआत में ये कोई लावा था या फिर यहां भी धरती की तरह से ही तत्वों की स्वाभाविक मौजूदगी रही। यह तत्व लावा से किस तरह क्रिस्टलाइज हुए आदि काफी चीजों का विश्‍लेषण करते हुए रिसर्च करेंगी।

कैमोर और कटनी ही नहीं पूर प्रदेश के लिए गौरवशाली क्षण
चंद्रयान अभियान में कटनी में पली बढ़ी मेघा भट्ट के शामिल होने से कैमोर ही नहीं कटनी जिला और पूरा मध्यप्रदेश गौरवान्वित है। देश के कुछ चुनिंदा साइंटिस्ट ही इस अभियान से जुड़े हैं। ऐसे में एक छोटे से शहर में हिन्दी मीडियम की छात्रा ने वह कर दिखाया जिसकी कोई कल्पना भी नहीं कर सकता। मेघा बचपन से ही काफी होनहार थीं। कैमोर में उन्हें जानने वाले तथा साथ पढ़ने वाले बताते हैं कि मेघा बेहद मिलनसाार और हंसमुख स्वभाव की हैं। कैमोर मिडिल स्कूल के बाद हायर सेकेन्ड्री एग्जाम में मेघा अव्वल रहीं उनकी रूचि शुरू से ही भौतिक रसायन पर रिसर्च करना था। आज वह जिस मुकाम पर पहुंची हैं सचमुच कैमोर इससे गौरवान्वित है साथ ही वह स्कूल भी खुशी से फूले नहीं समा रहे जहां मेघा भट्ट की प्रारंभिक शिक्षा हुई। मेघा रिसर्चर तो हैं ही उन्होंने पीएचडी भी की है।

ऐसा करते ही अमेरिका, रूस और चीन के बाद भारत चौथा ऐसा देश बन जाएगा, जिसने चांद की सतह पर यान उतारा है। 2008 में भारत ने चंद्रयान-1 को लांच किया था। यह एक ऑर्बिटर अभियान था। ऑर्बिटर ने 10 महीने तक चांद का चक्कर लगाया था। चांद पर पानी का पता लगाने का श्रेय भारत के इसी अभियान को जाता है।

इसरो की स्थापना के बाद से यह उसका अब तक का सबसे मुश्किल अभियान है। सफर के आखिरी दिन जिस वक्त रोवर समेत यान का लैंडर चांद की सतह पर उतरेगा, वह वक्त भारतीय वैज्ञानिकों के लिए किसी परीक्षा से कम नहीं होगा। खुद इसरो के चेयरमैन के. सिवन ने इसे सबसे मुश्किल 15 मिनट कहा है। इसकी सफलता के साथ ही भारत इस क्षेत्र में एक नई छलांग लगा लेगा। इस अभियान की महत्ता को इससे भी समझा जा सकता है कि अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा ने भी अपना एक पेलोड इसके साथ लगाया है।

मुख्य बिंदु

– 20 घंटे के काउंटडाउन और 54 दिन के सफर में रचा जाएगा इतिहास

 – 6 बजकर 51 मिनट पर रविवार सुबह शुरू हुआ काउंटडाउन

– 2 बजकर 51 मिनट पर सोमवार की सुबह लांचिंग का निर्धारित समय

– 6 सितंबर को चांद की सतह पर लैंडर के उतरने का अनुमान

ऐसा होगा चांद तक का सफर 
चंद्रयान-2 के चांद तक पहुंचने में 54 दिन लगेंगे। इसके 6 या 7 सितंबर को चांद की सतह पर उतरने का अनुमान है। 16 मिनट की उड़ान के बाद रॉकेट इस यान को पृथ्वी की बाहरी कक्षा में पहुंचा देगा। इसके बाद 16 दिनों तक यह धरती की परिक्रमा करते हुए चांद की ओर बढ़ेगा। इस दौरान इसकी रफ्तार 10 किलोमीटर/प्रति सेकंड होगी। 16 दिन बाद चंद्रयान-2 से रॉकेट अलग हो जाएगा। फिर इसे चांद की कक्षा तक पहुंचाया जाएगा। चांद की कक्षा में पहुंचने के बाद यह चंद्रमा का चक्‍कर लगाने लगेगा। यह चांद का चक्‍कर लगाते हुए उसकी सतह की ओर बढ़ेगा। चांद की सतह पर पहुंचने के बाद लैंडर और रोवर 14 दिनों तक जानकारियां जुटाते रहेंगे।

चंद्रयान-2 के हैं तीन हिस्से
चंद्रयान-2 के तीन हिस्से हैं ऑर्बिटर, लैंडर और रोवर। अंतरिक्ष वैज्ञानिक विक्रम साराभाई के सम्मान में लैंडर का नाम विक्रम रखा गया है। वहीं रोवर का नाम प्रज्ञान है, जो संस्कृत शब्द है, जिसका अर्थ होता है ज्ञान। चांद की कक्षा में पहुंचने के चार दिन बाद लैंडर-रोवर अपने ऑर्बिटर से अलग हो जाएंगे। विक्रम छह सितंबर को चांद के दक्षिणी ध्रुव के नजदीक उतरेगा और वहां तीन वैज्ञानिक प्रयोगों को अंजाम देगा। चांद पर उतरने के बाद रोवर उससे अलग होकर 14 दिन तक अन्य प्रयोगों को अंजाम देगा। चांद के हिसाब से यह अवधि एक दिन की बनेगी। वहीं ऑर्बिटर सालभर चांद की परिक्रमा करते हुए आठ प्रयोग करेगा। इस पूरे अभियान में अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा भी एक प्रयोग को अंजाम देगी।

दक्षिणी ध्रुव है कुछ विशेष

इस अभियान के लिए चांद के दक्षिणी ध्रुव को चुनना भी सोचा-समझा फैसला है। इसरो का कहना है कि उत्तरी धु्रव के मुकाबले यह हिस्सा छाया में रहता है। यहां पर्याप्त पानी होने की उम्मीद है। इस हिस्से में हमारी सौर व्यवस्था के शुरुआत दिनों के प्रमाण मिलने का भी अनुमान है। लैंडर विक्रम यहां दो क्रेटरों (अंतरिक्षीय पिंडों के टकराने से बने विशाल गड्ढे) के बीच के ऊंचे मैदान पर उतरेगा। उतरने की सुरक्षित और सटीक जगह लैंडर पर लगे कैमरे से मिलने वाली तस्वीरों के आधार पर चुनी जाएगी।

दुनिया की टिकी निगाहें

चंद्रयान-2 की सफलता पर भारत ही नहीं, पूरी दुनिया की निगाहें टिकी हैं। चंद्रयान-1 ने दुनिया को बताया था कि चांद पर पानी है। अब उसी सफलता को आगे बढ़ाते हुए चंद्रयान-2 चांद पर पानी की मौजूदगी से जुड़े कई ठोस नतीजे देगा। यह अभियान चांद पर विभिन्न अणुओं में पानी की उपस्थिति का अध्ययन करेगा।

इससे चांद की सतह नक्शा तैयार करने में मदद मिलेगी, जो भविष्य में अन्य अभियानों के लिए सहायक होगा। चांद की मिट्टी कौन-कौन से खनिज हैं और किस मात्रा में हैं, चंद्रयान-2 इससे जुड़े कई राज खोलेगा। उम्मीद यह भी है कि चांद के जिस हिस्से की पड़ताल का जिम्मा चंद्रयान-2 को मिला है, वह हमारी सौर व्यवस्था को समझने और पृथ्वी के विकासक्रम को जानने में भी मददगार हो सकता है।

दुनियाभर के अखबारों और पत्रिकाओं ने रखी अपनी राय

– द गार्जियन ने चांद पर मानव कदम प़़डने के 50 साल बाद फिर चांद की ओर अंतरिक्ष एजेंसियों के झुकाव का विश्लेषण किया है। अभी कुछ महीने पहले ही चीन ने भी चांद पर अपना यान उतारा है।

– द न्यूयॉर्क टाइम्स ने भी इसी विषय पर लिखा है। उसका कहना है कि भारत के लिए यह चंद्र अभियान टेक्नोलॉजी के क्षेत्र में उसकी प्रगति का प्रतीक है। चीन अपने अभियान से खुद को वैश्विक शक्ति के रूप में स्थापित करना चाहता है। वहीं, अमेरिका और नासा के लिए मंगल पर जाने के रास्ते में चांद एक प़़डाव की तरह हो गया है।

– वाशिंगटन पोस्ट ने इस अभियान को अंतरिक्ष के क्षेत्र में भारत की ब़़ढती महत्वाकांक्षा का प्रतीक बताया है। वाशिंगटन पोस्ट ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व की भी प्रशंसा की है। इसने लिखा, ‘भारत में अंतरिक्ष कार्यक्रमों की शुरुआत 1960 के करीब ही हो गई थी, लेकिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में इसे नई ख्याति मिली है। मोदी ने अंतरिक्ष कार्यक्रमों को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भारत के ब़़ढते कद और मजबूत रक्षा क्षमताओं से जोड़कर प्रोत्साहित किया है।’

50 साल पहले पहुंचा था मानव

उल्लेखनीय है कि ठीक 50 साल पहले 16 जुलाई, 1969 को अमेरिका ने चांद पर मानव भेजने के लिए अपना अपोलो-11 यान रवाना किया था। पांच दिन बाद यानी 21 जुलाई को अंतरिक्षयात्री नील आर्मस्ट्रांग ने चांद पर पहला कदम रखा था। 19 मिनट बाद उनके साथी बज एल्डि्रन ने चांद पर कदम रखा था।

Leave a Reply