शंकराचार्य स्वामी अधोक्षजानंद देवतीर्थ जी महाराज ने शिप्रा का किया पूजन

शंकराचार्य स्वामी अधोक्षजानंद देवतीर्थ जी महाराज ने शिप्रा का किया पूजन
भारत सरकार एवम प्रदेश सरकार को पत्र लिखकर शिप्रा नदी के घाटों पर स्वच्छता और प्रभाव मजल को लेकर की मांग
उज्जैन-बड़ा पुल स्थित पंचानन्द जूना अखाड़ा जगातगुरु पंचानन्द मिली महाराज कामाख्या तंत्र पीठ आश्रम पर नेपाल से शंकराचार्य स्वामी अधोक्षजानंद देवतीर्थ जी महाराज का उज्जैन आगमन हुआ। शिष्य कामाख्या पुत्र हिमालय गिरी कामाख्या थानापति ने जानकारी देते हुए बताया कि शंकराचार्य स्वामी महाराज का उज्जैन आगमन पर भक्तों ने फूलों की नोटों की माला पहनकर स्वागत किया। शिप्रा नदी में शुद्ध जल बारे और पवित्रता के साथ श्रद्धालु आस्था की डुबकी लगाकर मोक्ष पा सके इसलिए शंकराचार्य अधोक्षजानंद महाराज देवतीर्थ भारत भ्रमण पर निकले हैं। वह जगह-जगह पर पहुंच कर नदियों का पूजन करके उन्हें स्वच्छ बनाने के लिए संघर्ष कर रहे हैं। नेपाल में मां काली और गंदगी की पूजा करने के बाद वह सीधे उज्जैन पहुंचे जहां उन्होंने शिप्रा नदी का पूजन किया।

 

महाराज ने बताया कि हम भारत सरकार और प्रदेश सरकार को पत्र लिखकर शिप्रा नदी के घाटों पर स्वच्छता और प्रभाव मजल को लेकर मांग करेंगे उन्होंने कहा कि आने वाले समय में सिंहस्थ भी आने वाला है ऐसे में पूरे विश्व से लोग आस्था की डुबकी लगाने के लिए आते हैं। सिंहस्थ के बाद भी शिप्रा प्रवाह मान रहे ऐसी योजना बनाने की मांग महाराज ने की है। इस दौरान वह उज्जैन में मां काली आश्रम पर पहुंचे जहां उन्होंने मंदिर निर्माण को लेकर कहा कि यहां के संत बड़े सिद्ध है आने वाले समय में यहां पर भक्त पूजन अर्चन करेंगे। इस मौके पर दांडी स्वामीनाराद मुनी नेमीशरण, मनोरमा भारती अवधूतनी, कामाक्षी गिरी, पद्मिनी गिरी, अक्षय अघोरी तांत्रिक, महंत त्रिवेदी पुरी जी आदि संत एवं श्रद्धालु बड़ी संख्या में उपस्थित थे।

Leave a Reply