सरकार ने पहचाना 80 हजार फर्जी शिक्षकों को, अब होगी कार्रवाई

नई दिल्ली : मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने आधार के जरिये देश के विभिन्न कालेजों और विश्वविद्यालयों में करीब 80 हजार ऐसे शिक्षकों की पहचान की है जिनका दरअसल कोई वजूद ही नहीं है।  मानव संसाधन विकास मंत्री प्रकाश जावडेकर ने हालांकि स्पष्ट किया कि इनमें से कोई भी शिक्षक किसी केन्द्रीय विश्वविद्यालय से नहीं है।

जावडेकर ने एक कार्यक्रम में कहा कि कुछ ऐसे ‘फर्जी’ शिक्षक हैं जो  फेक उपस्थिति का तरीका अपनाते हैं और कई जगहों पर पूर्णकालिक पढ़ा रहे हैं। आधार शुरू होने के बाद, ऐसे 80 हजार शिक्षकों की पहचान हुई है और उनके खिलाफ कार्रवाई पर विचार किया जाएगा।  उन्होंने कहा,‘‘किसी केन्द्रीय विश्विवद्यालय में फर्जी शिक्षकों की पहचान नहीं हुई है। लेकिन कुछ राज्य एवं निजी विश्वविद्यालयों में ऐसे शिक्षक हैं।’’ मंत्रालय ने सभी विश्वविद्यालयों से सभी कर्मचारियों और छात्रों से आधार संख्या मांगने के लिए कहा है ताकि डुप्लीकेशन नहीं हो। हालांकि डेटा लीक होने के बारे में चिंता जताई गई है।