सोनिया गांधी को फिर से कांग्रेस की कमान, बनाई गईं अंतरिम अध्यक्ष

नई दिल्ली । कांग्रेस की अंतरिम अध्य्क्ष फिर से सोनिया गांधी को बनाया गया है कांग्रेस के नये अध्यक्ष पर कार्यसमिति ने व्यापक विचार-विमर्श किया। पांच अलग-अलग समूहों का गठन कर नये अध्यक्ष के नाम पर रायशुमारी कराई गई। कार्यसमिति के दूसरे दौर की बैठक के बाद कांग्रेस कार्यकर्ताओं की मांग फैसला किया गया।

CWC Meet LIVE Update: 

– नए अध्‍यक्ष चुनने के लिए पांच कार्य समूह बनाए गए थे। कार्यकर्ताओं की मांग पर सोनिया गांधी को अंतरिम अध्‍यक्ष बनाया गया। CWC की बैठक के बाद वरिष्‍ठ नेता गुलाम नबी आजाद ने दी जानकारी।   

– यूपीए की चेयरपर्सन सोनिया गांधी बनीं कांग्रेस की अंतरिम अध्‍यक्ष, इससे पहले वह 1998 से 2017 तक कांग्रेस की अध्‍यक्ष रह चुकी हैं। उन्‍होंने ही राहुल गांधी को कांग्रेस की कमान सौंपी थी। 

– राहुल गांधी ने कश्‍मीर के हालात पर चिंता जताई। 

– ज्‍यादातर लोगों ने राहुल गांधी को दोबारा अध्‍यक्ष बनाए जाने का समर्थन किया। लेकिन राहुल गांधी ने दोबारा अध्‍यक्ष बनने से इंकार किया। 

ANI@ANI

#Delhi: Rahul Gandhi arrives for Congress Working Committee (CWC) meeting underway at All India Congress Committee (AICC) office.

Twitter पर छबि देखें
Twitter पर छबि देखें

2869:34 pm – 10 अग॰ 2019Twitter Ads की जानकारी और गोपनीयता78 लोग इस बारे में बात कर रहे हैं

– कांग्रेस ऑफिस में CWC की बैठक में शामिल होने के लिए यूपीए की चेयरपर्सन सोनिया गांधी और प्रियंका गांधी वाड्रा पहुंच गई हैं। राहुल गांधी कुछ देर बाद पहुंचे। पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह‍, एके अंटोनी, मल्लिकार्जुन खड़गे, ज्‍योतिरोदित्‍य सिंधिया आदि भी पहुंच गए हैं। बैठक के दौरान पांचों ग्रुप ने अपने-अपने नाम दिए।  

ANI@ANI

#Delhi: UPA Chairperson Sonia Gandhi and Priyanka Gandhi Vadra arrive at All India Congress Committee (AICC) office for Congress Working Committee (CWC) meeting.

Twitter पर छबि देखें
Twitter पर छबि देखें
Twitter पर छबि देखें

राहुल ने अध्‍यक्ष बने रहने का आग्रह ठुकराया 
कार्यसमिति की राहुल को इस्तीफा वापस लेने के लिए राजी करने की आखिरी कोशिश नाकाम रहने के बाद लगभग तय है कि दो दशक बाद कांग्रेस की कमान गांधी परिवार के बाहर के चेहरे के हाथों में होगी। कांग्रेस कार्यसमिति की बैठक शुरू होने के साथ ही नए अध्यक्ष के चयन को लेकर पार्टी में व्यापक रायशुमारी की राहुल गांधी के रुख को देखते हुए पांच समूहों का गठन कर दिया गया। इनमें दो अलग-अलग समूहों में राहुल गांधी और सोनिया गांधी का नाम भी शामिल था मगर दोनों ने रायशुमारी की प्रक्रिया से खुद को दूर रखा।

चुनाव से गांधी परिवार ने खुद को अलग किया 
चर्चा में शामिल न होकर राहुल के साथ बैठक से बाहर निकलने के बाद सोनिया गांधी ने कहा कि रायशुमारी में हम दोनों का रहना उचित नहीं। रणदीप सुरजेवाला ने भी कहा कि नये अध्यक्ष के चयन में लोकतांत्रिक प्रक्रिया के उच्च मानदंड के अनुरूप सोनिया और राहुल गांधी ने समूहों की बैठक में हिस्सा लेना मुनासिब नहीं समझा क्योंकि दोनों नहीं चाहते थे कि उनकी निजी राय किसी तरह चयन को प्रभावित करे। राहुल के इस्तीफे के बाद असमंजस के दौर से पार्टी को निकालने के लिए शुरू हुई निर्णायक बैठक में कार्यसमिति ने सबसे पहले एक सुर से राहुल गांधी से इस्तीफा वापस लेने का अनुरोध किया।

Leave a Reply