CBSE के अंदर से ही हुई गड़बड़ी, परीक्षा नियंत्रक ने पेपर लीक पर दी थी चेतावनी,

नई दिल्ली। केंद्रीय माध्‍यमिक परीक्षा बोर्ड के परीक्षा नियंत्रक ने पेपर लीक के बारे में पहले ही चेतावनी दी थी. उन्‍होंने बोर्ड को चेताया था कि परीक्षा केद्रों को पेपर्स को लेकर फर्जी संदेश और ईमेल्‍स भेजे जा रहे हैं. परीक्षा नियंत्रक केके चौधरी ने यह खत चार मार्च को भेजा था. इसमें उन्‍होंने लिखा था, ‘कुछ लोग परीक्षा केंद्रों से परीक्षा पत्रों के सत्‍यापन की बात कहकर कॉपियां मांग रहे हैं. ये लोग उनके नाम से मेल और संदेश भेज रहे हैं.’

खत में कहा गया था कि बोर्ड परीक्षा की कॉपियां नहीं मांगता है और सभी परीक्षा केंद्रों को कहा जाता है कि इस तरह के मेल और संदेशों को नहीं लिया जाए और परीक्षा की पवित्रता बनाए रखें. इस खत के सामने आने के बाद सीबीएसई पर सवाल खड़े कर दिए हैं. बुधवार को बोर्ड ने 10वी की गणित और 12वीं की अर्थशास्‍त्र की परीक्षा दोबारा कराने का ऐलान किया था. खबरें सामने आईं थी कि ये दोनों पेपर वॉट्सऐप पर लीक हो गए हैं.

इससे पहले सोशल मीडिया पर चर्चा थी कि 15 मार्च को हुई अकाउंटेंसी का पेपर भी लीक हुआ था. पेपर लीक होने के बाद लोगों ने सीबीएसई पर अपना गुस्‍सा उतारा. 10वीं कक्षा के छात्र प्रणव वीजू ने कहा कि पेपर लीक की बात पढ़कर वह हैरान है. उसे समझ नहीं आ रहा है कि अधिकारी कर क्‍या रहे हैं.

इधर, दिल्‍ली पुलिस ने दो अलग-अलग मामले दर्ज जांच के लिए एसआईटी का गठन किया है. सूत्रों का कहना है कि पेपर सीबीएसई के अंदर से ही किसी ने लीक किया. किसी निजी स्‍कूल ने ऐसा नहीं किया. पुलिस ने आठ लोगों को हिरासत में लिया है और 15 से पूछताछ की है.

पीएम नरेंद्र मोदी ने पेपर लीक पर नाराजगी जताई थी. उन्‍होंने इस बारे में एचआरडी मंत्री प्रकाश जावड़ेकर से बात भी की थी. पीएम ने भविष्‍य में ऐसा ना इसके लिए कड़े कदम उठाने को कहा है.