IND vs SA: भारत ने दक्षिण अफ्रीका में पहली बार सीरीज जीती

पोर्ट एलिजाबेथ : आखिरकार विराट कोहली के नेतृत्व वाली भारतीय टीम ने दक्षिण अफ्रीका में वनडे सीरीज जीत ली है। दक्षिण अफ्रीका के साथ छह मैचों की सीरीज के तहत पोर्ट एलिजाबेथ के क्रिकेट मैदान पर खेले गए 5वें वनडे में भारत ने पहले बल्लेबाजी करते हुए 50 ओवर में 274 रन बनाए थे। जिसके जवाब में उतरी दक्षिण अफ्रीका टीम 42.1 ओवर में 201 पर सिमट गई। इस तरह भारत ने 73 रन से मैच जीतकर इतिहास रच दिया।

दक्षिण अफ्रीका को मिली अच्छी शुरुआत 
लक्ष्य का पीछा करने उतरी दक्षिण अफ्रीका का शुरुआत अच्छी रही। कप्तान मार्कराम के साथ हाशिम अमला मैदान पर आए। दोनों ने सधी हुई पारी खेलते हुए स्कोर को आगे बढ़ाया। दसवें ओवर में जब मार्कराम 32 के स्कोर पर बुमराह की गेंद पर कोहली को कैच थमाकर आऊट हुए तब दक्षिण अफ्रीका का स्कोर 52 रन था। इसके बाद बैटिंग करने आए जेपी डुमिनी (1) और एबी डीविलियर्स (6) कुछ खास नहीं कर पाए। वहीं दूसरी ओर एक छोर पर अमला टिके रहे। उन्होंने डेविड मिलर के साथ मिलकर स्कोर को आगे बढ़ाया। दोनों में 62 रन की पार्टनरशिप हुई थी तभी मिलर भारतीय स्पिनर चाहल की गेंद पर बोल्ड हो गए।

हाशिम अमला ने बनाए 71 रन
मिलर ने आऊट होने से पहले 51 गेंद में दो चौके और एक छक्के की मदद से 35 रन बनाए। वहीं दूसरी ओर अमला ने पिछले मैच के हीरो क्लासेन के साथ पारी को आगे बढ़ाया लेकिन 35वें ओवर में हाशिम अमला (71) भी हार्दिक पांड्या की शानदार थ्रो पर रन आऊट हो गए। पिछले मैच में 23 रन बनाकर दक्षिण अफ्रीका के एंडिल इस मैच में कुछ खास कमाल नहीं कर पाए। उन्हें कुलदीप यादव ने 0 पर बोल्ड कर दिया। रबादा भी तीन रन बनाकर चलते बने।

क्लासेन की पारी काम न आई
बढ़ते प्रैशर के चलते क्लासेन भी अपना लय गंवा बैठे और चाहल की गेंद को मारने के चक्कर में आगे बढ़ गए। बॉल छूटी तो विकेटकीपर एमएस धोनी ने स्टंम्प उड़ाने में कोई देर नहीं की। क्लासेन ने 39 रन की अपनी पारी में दो छक्के और दो चौके भी लगाए।

कुलदीप यादव ने आखिरी ओवर में झटके विकेट
भारतीय गेंदबाजी का मुख्य आकर्षण इस बार कुलदीप यादव रहे उन्होंने दस ओवर में 57 रन देकर 4 विकेट झटके। इनमें से तीन विकेट तो उन्होंने आखिरी ओवर में झटके। वहीं, दूसरी ओर यजुवेंद्र चहल ने भी एक छोर संभालते हुए 9.2 ओवर में 43 रन देकर 2 विकेट झटके। हार्दिक पांड्या ने भी नौ ओवर में 30 रन देकर 2 विकेट झटके। जसप्रीत बुमराह ने 7 ओवर में 22 रन देकर 1 विकेट झटका। भुवनेश्वर कुमार ने 7 ओवर में 43 रन दिए लेकिन वह कोई विकेट हासिल नहीं कर पाए।

इससे पहले अच्छी शुरुआत को भुना नहीं भारत
इससे पहले सुबह टॉस हारने के बाद बैटिंग के लिए आमंत्रित भारतीय क्रिकेट टीम ने पोर्ट एलिजाबेथ के मैदान में साऊथ अफ्रीका के खिलाफ जोरदार शुुरुआत तो की लेकिन मध्यक्रम के दोबारा फेल होने के कारण टीम इंडिया बड़ा स्कोर नहीं बना पाई। एक समय जब रोहित शर्मा और धवन अपनी पूरी लय में खेल रहे थे तब ऐसा लग रहा था कि भारत 350 से ज्यादा रन बनाएगा। लेकिन धवन और कोहली के आऊट होते ही भारतीय मध्यक्रम ताश के पत्तों की तरह बिखर गया। इस तरह भारत 50 ओवर में महज 274 रन ही बना पाया

रोहित ने लगाया 17वां शतक, धवन ने खेली तूफानी पारी
इसी बीच टेस्ट के बाद वनडे सीरीज में फ्लॉप चल रहे रोहित शर्मा ने फॉर्म में वापसी करते हुए अपना 17वां शतक बनाया। रोहित ने 126 गेंदों में खेली 115 रन की पारी के दौरान 11 चौके और 4 छक्के भी लगाए। उधर धवन ने अपनी शानदार फॉर्म जारी रखते हुए आठ चौकों की मदद से महज 23 गेंद में 34 रन बना दिए। धवन के आऊट होने के बाद कोहली ने कुछ अच्छे शॉट खेले लेकिन वह भी 26वें ओवर में एक रन चुराने के चक्कर में आऊट हो गए।

रहाणे और पांड्या फिर हुए फ्लॉप
अजिंक्य रहाणे इस मैच में भी कुछ खास प्रदर्शन नहीं कर पाए और महज 8 रन पर वह रन आऊट हो गए। नए खिलाड़ी श्रेयस ईय्यर ने हालांकि कुछ अच्छे शॉट लगाए लेकिन वह अपनी पारी को बढ़ा करने में नाकामयाब रहे। ईय्यर ने 37 गेंद में 30 रन बनाएं। वहीं, हार्दिक पांड्या की फॉर्म अभी भी भारत के लिए चिंता का विषय बनी हुई है। पांड्या पहली गेंद पर ही नगिडी के हाथों आऊट हो गए।

धोनी और भुवनेश्वर भी हो गए फेल
चौथे वनडे में धीमी बैटिंग के लिए आलोचना झेल रहे एमएस धोनी इस मैच में भी कुछ खास नहीं कर पाए। आखिरी ओवरों में बल्लेबाजी करते हुए धोनी 17 गेंद में एक चौके की मदद से केवल 13 रन ही बना पाएं। वहीं भुवनेश्वर कुमार ने एक छोर संभाले रखा। वह 20 गेंद में 19 रन बनाकर टीम इंडिया को 274 रनों तक ले गए। कुलदीप यादव ने भी 2 रन बनाए।

नगिडी ने झटके चार विकेट
दक्षिण अफ्रीका की ओर से तेज गेंदबाज नगिडी सबसे सफल रहे। उन्होंने नौ ओवर में 51 रन देकर 4 विकेट झटके। जबकि मोर्ने मार्केल ने किफायती गेंदबाजी करते हुए 10 ओवर में दो मेडन फेंककर 44 रन दिए। लेकिन वह विकेट नहीं हासिल कर पाए। जेपी डुमिनी चार ओवर में 29 तो शम्सी दस ओवर में 48 रन देकर कोई विकेट हासिल नहीं कर पाए। रबादा को नौ ओवर में 59 रन देकर एक विकेट मिला।