7th Pay Commission : कर्मचारियों के लिए खुशखबरी, ग्रेज्‍युटी सीमा को लेकर सरकार का अहम फैसला

7th Pay Commission : सातवें वेतन आयोग के लाभ के दायरे में आने वाले हजारों कर्मचारियों के लिए खुशखबरी है। सरकार ने बड़ा फैसला लेते हुए कर्मचारियों की Gratuity ग्रेच्‍युटी की सीमा को बढ़ाकर दोगुना कर दिया है। अभी तक यह Gratuity ग्रेच्‍युटी की सीमा 10 लाख रुपए थी जो अब बढ़ाकर 20 लाख कर दी गई है। इससे देश भर के हजारों कर्मचारी सीधे तौर पर लाभान्वित होंगे।

Gratuity ग्रेज्‍चुटी की सीमा बढ़ाए जाने का यह आदेश Jawahar Navodaya Vidyalaya जवाहर नवोदय विद्यालय समिति के कर्मचारियों के लिए है। मानव संसाधन विकास मंत्रालय के अधीन लगने वाले स्‍वायत्‍त संस्‍थान नवोदय विद्यालय समिति के कर्मचारी इसके पात्र होंगे। सरकार ने गत 24 फरवरी को इसका आदेश जारी किया था। इसके अनुसार 29 मार्च, 2018 से बढ़ाया गया है।

सरकार ने यह फैसला उन कर्मचारियों के लिए लिया है जो Jawahar Navodaya Vidyalaya जवाहर नवोदय विद्यालय समिति से 1 जनवरी 2004 से जुड़े हैं। आदेश में कहा गया है कि अब नवोदय विद्यालय समिति के कर्मचारियों के लिए NVS पेमेंट ऑफ ग्रेच्‍युटी एक्‍ट वापस लिया जा रहा है और इसकी बजाय Gratuity Act 1972 ग्रेच्‍युटी एक्‍ट 1972 लागू किया जाएगा।

गौरतलब है कि वित्‍त मंत्रालय ने इससे पहले 10 लाख रुपए कली बजाय 20 लाख रुपए तक की ग्रेच्‍युटी को Tax Free कर मुक्‍त किए जाने का निर्णय लिया था। समय-समय पर सरकार द्वारा बाजार की माली हालत, कंपनियों के बजट, उनकी आर्थिक स्थिति और कर्मचारियों को वेतन देने की क्षमता एवं वेतन सीमा के आधार पर ग्रेच्‍युटी की सीमा को बढ़ाया जाता रहा है। नवोदय विद्यालय समिति से अलग अन्‍य शेष केंद्रीय कर्मचारियों के लिए मार्च 2018 में ही ग्रेच्‍युटी की सीमा को बढ़ाकर 20 लाख रुपए कर दिया गया था।

Jawahar Navodaya Vidyalaya जवाहर नवोदय विद्यालय एक नजर में

वर्ष 1986 में राष्‍ट्रीय शिक्षा नीति लागू की गई थी। इसके तहत देश के हर जिले में Jawahar Navodaya Vidyalaya जवाहर नवोदय विद्यालय की स्‍थापना किया जाना तय किया गया था। इन जवाहर नवोदय विद्यालयों का उद्देश्‍य ग्रामीण क्षेत्रों में उचित रूप से शिक्षा देना है। इन स्‍कूलों में CBSE केंद्रीय माध्‍यमिक शिक्षा बोर्ड यानी सीबीएसई बोर्ड का प्रावधान लागू होता है और NCERT एनसीईआरटी की ओर से तैयार किए गए सिलेबस के आधार पर पढ़ाई कराई जाती है।

Leave a Reply