पन्‍ना: एक लाख की रिश्वत लेते बीएमओ रंगे हाथ गिरफ्तार हकीकत जान दंग रह जाएंगे आप

शाहनगर/पन्ना। बेटी की मौत के सही कारणों को जानने पिता ने डॉक्टर से सही पीएम रिपोर्ट बनाने को कहा तो उसने दो लाख रुपए की मांग कर दी। बाद में डॉक्टर एक लाख में मान गया। लेकिन इस बीच पिता ने मामले की शिकायत लोकायुक्त सागर में कर दी। सोमवार दोपहर लोकायुक्त ने सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र शाहनगर के बीएमओ डॉक्टर निर्मल जसूजा को उसके चैंबर से एक लाख की रिश्वत लेते रंगेहाथ गिरफ्तार कर लिया।

चार साल पहले हुई थी शादी

छतरपुर जिले के नैनागिरी निवासी महेश सिंह की पुत्री राजाबेटी (25) का विवाह चार साल पहले पन्ना जिले के शाहनगर के बगरौड़ में चंद्रपाल सिंह के साथ हुआ था। 12 फरवरी 2018 को राजाबेटी संदिग्ध परिस्थितियों में फांसी के फंदे पर लटकती मिली। यही वजह थी कि लड़की का पिता चाह रहा था कि जिन परिस्थितियों में उसकी बेटी की मौत हुई, डॉक्टर उसी के मुताबिक रिपोर्ट बनाएं। लेकिन डॉक्टर जसूजा ने ऐसा करने की एवज यानी सही रिपोर्ट बनाने के लिए दो लाख की रिश्वत की मांग कर डाली।

15 दिन पहले की थी शिकायत

महेश ने मामले की शिकायत करीब 15 दिन पहले की थी। लोकायुक्त ने अपनी जांच में शिकायत को सही पाया। टीम ने रिश्वत लेने के बाद जैसे ही डॉक्टर के हाथ धुलवाए कैमिकल लगे नोट ने हकीकत बयां कर दी। जानकारी मुताबिक बीएमओ जसूजा के खिलाफ लेनदेन की पहले भी शिकायतें मिलती रही हैं।

इनका कहना है

मृतका के पिता ने रिश्वत मांगने की शिकायत 15 दिन पहले लोकायुक्त सागर में एसपी से की थी। शिकायत के बाद इसकी पुष्टि कराई गई। जांच में शिकायत सही मिलने के बाद सोमवार को बीएमओ को एक लाख रुपए रिश्वत लेते उसके चैंबर से टीम ने पकड़ा है।

एमपी द्धिवेदी, निरीक्षक लोकायुक्त सागर