खतरे में AAP विधायकों की कुर्सी, भाजपा ने शुरू किया मंथन

नई दिल्ली: दिल्ली भाजपा ने 20 विधानसभा क्षेत्रों में उपचुनावों की संभावना पर गंभीरता से चर्चा शुरू कर दी है। चुनाव आयोग द्वारा लाभ का पद धारण करने के लिए 20 आप विधायकों को अयोग्य घोषित करने की अनुशंसा के बाद यह चर्चा शुरू हुई है। पार्टी सूत्रों ने बताया कि भाजपा नेताओं ने कल रात पार्टी की कोर कमेटी के सदस्यों की बैठक में मुद्दे पर चर्चा हुई।
<
बैठक में हुई कई मुद्दों पर चर्चा
बैठक में शामिल एक वरिष्ठ नेता ने बताया कि उत्तर और दक्षिण दिल्ली में सीलिंग के मुद्दे के साथ ही इस मुद्दे पर भी चर्चा की गई। सत्तारूढ़ आप ने 2015 के विधानसभा चुनावों में 67 सीटों पर जीत दर्ज की थी। तब से दिल्ली में दो उपचुनाव हुए हैं जिनमें सत्तारूढ़ दल और भाजपा को एक-एक सीट मिली है। पार्टी नेता ने बताया कि भाजपा को लगता है कि आप के 20 विधायकों को चुनाव आयोग द्वारा अयोग्य ठहराने की अनुशंसा सत्तारूढ़ दल को कमजोर करने का एक मौका है। चुनाव आयोग ने कल राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद से अनुशंसा की थी कि आप के 20 विधायकों को लाभ के पद पर बने रहने के लिए अयोग्य घोषित किया जाए।