Corona; भोपाल और जबलपुर में रात 12 बजे से कर्फ्यू, 43 जिलों में लॉकडाउन

भोपाल. मध्यप्रदेश में कोरोना संक्रमण रोकने के लिए सोमवार देर रात 12 बजे से भोपाल और जबलपुर में कर्फ्यू लगा दिया गया। भोपाल कलेक्टर तरुण पिथोड़े ने भास्कर को बताया कि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कार्यभार ग्रहण करने के बाद इसके आदेश दिए। अब तक भोपाल और जबलपुर में 6 मामले सामने आ चुके हैं। इससे पहले प्रदेश के 43 जिलों को भी लॉकडॉउन कर दिया गया। वहीं, केंद्रीय गृह सचिव ने सभी राज्यों के डीजीपी के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग में निर्देश दिए कि लॉकडाउन को पूरी सख्ती के साथ लागू किया जाए।

लॉकडाउन किए गए जिलों में अलग-अलग समयावधि रहेगी। इन जिलों में धारा 144 भी लागू की गई है। यहां इसका असर भी देखने को मिल रहा है। सोमवार सुबह से लोगों ने दूध और सब्जी खरीदी। जरूरत का सामान लेने के बाद अपने घरों में चले गए। प्रशासन ने लोगों से घर से काम करने के लिए कहा है। मध्य प्रदेश के कार्यवाहक स्वास्थ्य मंत्री तरुण भनोट ने बताया कि सभी 6 कोरोना पॉजिटिव की हालत स्थिर है। प्रदेश में अब तक 75 नमूने लिए जा चुके हैं। 48 की रिपोर्ट निगेटिव आई है। जबलपुर से 5 कोरोनावायरस मरीज सामने आए। ये लोग 4 हजार से अधिक लोगों के संपर्क में आए। भोपाल कलेक्टर तरुण पिथोड़े ने मीडिया से कोरोना पॉजिटिव की पहचान उजागर नहीं करने की अपील की है।

अब सख्ती से कराया जाएगा नियमों का पालन
कोरोना वायरस से बचाव के लिए प्रदेश के 43 जिलों में लगाए गए लॉकडाउन का उल्लघंन करने वालों पर अब सख्ती से कानूनी कार्रवाई की जाएगी। ऐसा इसलिए किया जा रहा है कि लोग इसका पालन नहीं कर रहे हैं। इसके आदेश जारी कर दिए गए हैं। बताया जा रहा है कि सभी 43 जिलों में एक बार फिर मुनादी कराकर लोगों को नियम का पालन करने और क्यों करें के बारे में बताया जाएगा। मंगलवार को इसके बाद भी लोग अगर अपने घरों से निकलते हैं तो उन पर मामला दर्ज किया जाएगा।

प्रदेश के इन जिलों में लॉकडाउन

शहरकब तक लॉकडाउन
भोपाल, टीकमगढ़, निवाड़ी, डिंडौरी, रायसेन, राजगढ़, छतरपुर, दतिया, मुरैना, होशंगाबाद, उमरिया और अनूपपुर31 मार्च
नरसिंहपुर3 अप्रैल
सीहोर, शाजापुर, आगर मालवा, रीवा, शिवपुरी, कटनी, ग्वालियर और भिंड24 मार्च
शहडोल, अलीराजपुर23 मार्च
देवास, नीमच, सिंगरौली, गुना, रतलाम, मंडला, मंदसौर, बालाघाट, सिवनी, उज्जैन, श्योपुर, झाबुआ, विदिशा, दमोह, छतरपुर, इंदौर, अशोकनगर25 मार्च
जबलपुर, बैतूल और छिंदवाड़ा26 मार्च

भोपाल में पुलिस ने सुबह से संभाला मोर्चा

पुराने भोपाल में लोगों को समझाइश देकर घर जाने कहते पुलिसकर्मी।

भोपाल में रविवार को एक युवती को कोरोना पॉजिटिव होने की पुष्टि के बाद शहर को 31 मार्च तक टोटल लॉकडाउन किया गया। जरूरत का सामान और इमरजेंसी सेवाओं को इससे मुक्त रखा गया है। पुराने शहर में लोगों ने घरों से निकलने की कोशिश की, लेकिन पुलिस ने सख्ती दिखाते हुए वापस भेज दिया। पेट्रोल पंप, दवाओं की दुकान और मिल्क पॉर्लर खुले हैं। बाहरी छात्रों को खाने की दिक्कत नहीं हो, इसके लिए होटलों को होम डिलीवरी की छूट दी गई है। भोपाल में उड़ानें बंद कर दी गई हैं। सरकारी कर्मचारियों को 31 मार्च तक घर पर रहकर ही काम करने को कहा गया है।

भिंड में अचानक बाजार में उमड़ी भीड़

सोमवार सुबह बाजार में उमड़ी भीड़ को घर जाने कहता पुलिस का जवान।

भिंड में सोमवार और मंगलवार 2 दिन के लिए लॉकडाउन किया गया है। हालांकि यहां कोई संक्रमित मरीज सामने नहीं आया है। लेकिन ये कदम उत्तर प्रदेश की सीमा से नजदीक होने के चलते उठाया गया है। जिला प्रशासन ने रविवार रात को ही मुनादी करा दी थी। इसके बावजूद सोमवार सुबह लोग रोज की तरह बाजार में आ गए। पुलिस के आलाअधिकारी बल के साथ मौके पर पहुंचे और लोगों को घर जाने की समझाइश दी। इसके बाद लोग घरों में चले गए।

सीहोर में पुलिस की गश्त, घरों में दुबके लोग

सीहोर में सड़क पर गश्त करती पुलिस।

सीहोर की सीमा से लगे भोपाल में कोरोना वायरस का मरीज मिलने के बाद शहर हाईअलर्ट पर है। लॉकडाउन कर दिया गया है। सड़कों पर पुलिस गश्त कर रही है। सुबह लोग जरूरी सामान लेकर घरों में चले गए। बताया गया कि भोपाल में कोरोना पॉजिटिव मरीज से मिलने सीहोर के कुछ परिवार भी गए थे। प्रशासन ने सभी को होम आइसोलेट किया है।

रतलाम, मंदसौर, नीमच में लोग घरों में क्वारैंटाइन

कोराेना के कारण पशुपतिनाथ मंदिर में भक्तों का आना बंद है।

नीमच कलेक्टर जितेंद्र सिंह राजे ने बताया कि जिले में जनता कर्फ्यू बढ़ा दिया है। 25 मार्च को रात 12 बजे तक टोटल लॉकडाउन घोषित कर प्रतिबंधात्मक आदेश जारी किए हैं। वहीं, मंदसौर में जिले और आसपास के क्षेत्र में कोरोना संदिग्ध मिलने और विशेषज्ञों के अनुसार ट्रांसमिशन फेंस में पहुंचने की स्थिति में जिला प्रशासन ने अब 25 मार्च तक जिले को लॉकडाउन कर दिया है। लोगों की सुविधा के लिए दूध विक्रेता, हॉकर और अन्य जरूरी सामान वालों को सुबह 8 बजे तक की छूट दी गई है। शासकीय और अशासकीय कार्यालय 31 मार्च तक बंद करने को कहा गया है। जिले में बाहर से आए करीब 58 लोगों को होम आइसोलेशन में रखा गया है।

ओरछा समेत प्रदेश के सभी मंदिरों में दर्शन नहीं कर सकेंगे श्रद्धालु

ओरछा में भगवान रामराजा सरकार का मंदिर बंद रहेगा। यहां 5 अप्रैल तक लाॅकडाउन है। छतरपुर, टीकमगढ़ और निवाड़ी की यूपी से लगी सीमाओं को पहले ही सील कर दिया गया है। सरकारी कर्मचारी घर से ही काम कर रहे हैं।

सलकनपुर मंदिर ट्रस्ट की अपील- इस बार दर्शन के लिए नहीं आएं
25 मार्च से चैत्र नवरात्र शुरू हो रहे हैं। सीहोर जिले के सलकनपुर में बीजासन माता मंदिर में लाखों भक्त दर्शन के लिए पहुंचते हैं। यहां आने वाले लोगों से 31 मार्च तक घर पर ही पूजा करने की अपील की गई है। ट्रस्ट ने कहा है कि 31 मार्च के बाद मंदिर में भक्तों को प्रवेश दिया जाए या नहीं, ये परिस्थिति को देखने के बाद निर्णय लिया जाएगा।

इंदौर में बुधवार तक स्वघोषित लॉकडाउन, सभी बड़े बाजार बंद

इंदौर को 25 मार्च तक लॉकडाउन कर दिया गया। सोमवार को जिला प्रशासन की बैठक में यह फैसला लिया गया। हालांकि जनता कर्फ्यू के बाद 25 मार्च तक इंदौर में स्वघोषित लॉकडाउन है। यहां सभी व्यापारिक संगठनों ने अपने बाजार बुधवार तक बंद करने की घोषणा कर दी है, साथ ही यह ऐलान भी कर दिया है कि इसके बाद भी स्थिति में सुधार नहीं हुआ तो इसे बढ़ाकर 31 मार्च तक कर देंगे। बाजारों के साथ रेस्त्रां एसोसिएशन ने सभी रेस्त्रां, बार, पब और एसोसिएशन ऑफ इंडस्ट्री मप्र ने सभी उद्योगों (जरूरी उत्पादन वाले छोड़कर) को 31 मार्च तक बंद करने की घोषणा की है।

अशोकनगर में सुबह से सन्नाटा

अशोकनगर में सुबह से सड़कों पर सन्नाटा रहा।

लॉकडाउन के चलते अशोकनगर में आज सड़कों पर सन्नाटा पसरा है। हालांकि सुबह बाजार में अचानक लोगों की भीड़ बढ़ गई थी। लोग जरूरी सामान खरीदने दुकानों पर पहुंचे। पहले पुलिस ने लोगों को समझाइश दी। इसके बाद हल्का बल प्रयोग किया। मुख्य बाजार समेत चौराहों पर पुलिस का सख्त पहरा है। जिले की सीमाओं के सील होने के कारण वाहनों की आवाजाही ठप है।

होशंगाबाद में सीमाएं सील, हाईवे पर पुलिस तैनात

होशंगाबाद जिले की सीमाओं पर पुलिस ने बेरिकेड्स लगा दिए

लॉकडाउन के पहले दिन सेठानी घाट और मंदिरों में लोगों की भीड़ देखी गई। बाजार भी खुलने लगे, तब पुलिस ने लोगों को समझाइश देने की कोशिश की। जब इसका कोई असर दिखाई नहीं दिया तो पुलिस को हल्का बल प्रयोग करना पड़ा। इसके बाद लोग अपने घर चले गए। वाहनों की आवाजाही रोकने के लिए हाईवे पर बेरिकेड्स लगाए गए। पर्यटन स्थल पचमढ़ी की ओर जाने वाले सभी रास्तों को सील कर दिया गया। यहां सभी होटलों को खाली करा लिया गया है।


रायसेन में दोपहर 12 बजे से लागू हुआ लॉक डाउन

रायसेन में लॉकडाउन की सुबह से सूचना नहीं होने पर बाजार खुल गए और चहलपहल बढ़ गई।

जिले को लॉकडाउन करने के आदेश रविवार देर रात जारी किए गए थे। लोगों की इसकी सूचना देने के लिए जिला प्रशासन को समय ही नहीं मिला। सुबह से लोग बाजार में आ गए और होटल और अन्य दुकान भी खुल गईं। सब्जी मंडी में दूर-दराज के किसान और खरीदार जमा हो गए। इसके बाद प्रशासन की मदद से मुनादी करा कर लोगों को 12 बजे तक अपना कारोबार बंद करने कहा गया। लेकिन बाजार बंद होते-होते 2 बज गए। इस समय पूरा शहर बंद हो गया है। जिले के सभी मार्गों पर 31 मार्च तक बसों के संचालन पर रोक लगाई गई है।

Leave a Reply