करैरा में मुफ्त उज्जवला योजना के गैस कनेक्शन पर “सागर गैस एजेंसी” वसूल रही पैसे, सुनें आडियो

करैरा। मोदी सरकार के चार वर्ष की उपलब्धि में सबसे ज्यादा जिस बात का उल्लेख किया जा रहा है वह है उज्जवला योजना का।
इस योजना के तहत गरीबों को मुफ्त में गैस कनेक्शन दिया जा रहा है। पूरे देश में 11 करोड़ सिलेंडरों के मुफ्त वितरण का राग सरकार जमकर अलाप रही है, लेकिन इसकी हकीकत कुछ और ही है।
कई गैस एजेन्सियां सरकार के मुफ्त स्कीम पर पलीता लगाने में जुटी हैं। इन्ही में से एक मामला शिवपुरी जिले की करैरा विधानसभा में सामने आया है, जहां इकलौती सागर गैस ऐजेन्सी के द्वारा उज्जवला योजना के तहत मुफ्त में दिये जाने वाले गैस कनेक्शन की एवज में 5 सौ से एक हजार रूपये खुले आम वसूले जा रहे हैं।
खास बात यह है कि करैरा की इस लूट की जानकारी जिले के खाद् विभाग को भी है, लेकिन कमीशनखोरी के चक्कर में दर्जनों शिकायत के बाद भी सागर गैस एजेंसी पर अब तक कोई कार्रवाई नहीं की गई।
और तो और जब कुछ जागरूक लोगों ने गैस कनेक्शन के एवज में अनाधिकृत पैसों की मांग पर विरोध जताया तो एजेन्सी कर्मचारी ने खुले आम धमकी दी कि गैस कनेक्सन के लिए पैसा तो देना ही पड़ेगा जहां शिकायत करना है कर दो।
साफ है यह सिर्फ एक मामला नहीं है शिवपुरी जिले में और भी कई ऐसी एजेन्सी होंगी जो मुफ्त के गैस कलेक्शन पर गरीबों से उगाही कर रहीं होंगी।
करैरा की सागर गैस ऐजेन्सी में पहले भी अनियमितता की शिकायतें आतीं रहीं लेकिन गरीबों की सुनने वाला कोई नहीं। एक तरफ भाजपा सरकार इस योजना पर अपनी वाहवाही लूटने में कोई कसर नहीं छोड़ रही दूसरी तरफ सागर गैस एजेंसी जैसी गैस एजेन्सियां गरीबों को लूटने में कोई कसर नहीं छोड़ रहीं।
यही नहीं उज्ज्वला योजना के तहत नियमानुसार गरीब अथवा उन परिवारों को गैस कनेक्शन उपलब्ध कराने हैं जिनके पास पहले से कोई गैस कनेक्शन नहीं हैं बावजूद गैस ऐजेंसी कहीं गरीबी रेखा के कार्ड मांग रही हैं तो कहीं कोई अन्य कागजात मांंग कर उपभोक्ता को एजेंसी के चक्कर लगवा रहीं है।
वसूली का आडियो वायरल
इस संबंध में भले ही एजेंसी अब कुछ भी कहे लेकिन एक आडियो वायरल हुआ है जिसमें एक उपभोक्ता अवैध पैसे लेने के बारे में एजेंसी से जानकारी चाह रहा है तो उसे टका सा जवाब एजेंसी कर्मचारी के द्वारा दिया जा रहा है कि पैसे तो लगेंगे ही। अब देखना है जिम्मेदारों के कानों में यह वायरल आडियो पहुंचता है अथवा नहीं। बहरहाल इस मामले की शिकायत प्रधानमंत्री कार्यालय तक पहुंच चुकी है। देखना है आने वाले दिनों में सागर गैस एजेंसी पर क्या कार्रवाई होती है।