महिला क्रिकेट को बढ़ावा देने की तैयारी में BCCI

लखनऊ। आखिरकार भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआइ) को महिला क्रिकेट को बढ़ावा देने का ख्याल आ गया है। इसी कवायद के तहत अंडर-16 वर्ग की जोनल प्रतियोगिता 2017-18 में कराने का फैसला किया है। यह टूर्नामेंट घरेलू राष्ट्रीय क्रिकेट कैलेंडर का हिस्सा भी बनेगा।

अहम है कि महिला विश्व कप में भारतीय टीम के उप विजेता बनने के बाद प्रधानमंत्री ने भी महिला क्रिकेट को बढ़ावा देने की मांग की थी। इससे बीसीसीआइ ने सहमति जताई थी। बीसीसीआइ के आदेश के बाद उत्तर प्रदेश क्रिकेट संघ (यूपीसीए) ने टूर्नामेंट की तैयारी शुरू कर दी है।

यूपीसीए ने 10 से 12 दिसंबर के बीच कानपुर के कमला क्लब में राज्य चयन ट्रायल कराने का फैसला किया है। इस मामले में बीसीसीआइ और यूपीसीए भले ही उत्साहित नजर आएं, लेकिन जिला इकाइयां अब भी अपनी पोगापंथी सोच से बाहर निकलने को तैयार नहीं है। कोई इकाई कम समय का बहाना बना रही है तो कोई पर्याप्त जगह नहीं मिलने की।

अहम है कि महिला विश्व कप में भारतीय टीम के उप विजेता बनने के बाद प्रधानमंत्री ने भी महिला क्रिकेट को बढ़ावा देने की मांग की थी। इससे बीसीसीआइ ने सहमति जताई थी। बीसीसीआइ के आदेश के बाद उत्तर प्रदेश क्रिकेट संघ (यूपीसीए) ने टूर्नामेंट की तैयारी शुरू कर दी है।

यूपीसीए ने 10 से 12 दिसंबर के बीच कानपुर के कमला क्लब में राज्य चयन ट्रायल कराने का फैसला किया है। इस मामले में बीसीसीआइ और यूपीसीए भले ही उत्साहित नजर आएं, लेकिन जिला इकाइयां अब भी अपनी पोगापंथी सोच से बाहर निकलने को तैयार नहीं है। कोई इकाई कम समय का बहाना बना रही है तो कोई पर्याप्त जगह नहीं मिलने की।