टैक्स चोरी : ढाई सौ करोड़ का कारोबार दिखा रहे थे दस गुना कम

इंदौर। सेंट्रल एक्साइज और कस्टम विभाग में आने वाली जीएसटी इंटेलिजेंस विंग ने शुक्रवार को टॉफी-चॉकलेट फैक्टरियों पर छापामार कार्रवाई की। चार प्रदेशों के पांच शहरों में 20 से ज्यादा ठिकानों पर एक साथ जांच शुरू की गई। इनमें इंदौर के एक ही समूह की नौ कंपनियां हैं। प्रारंभिक जांच में खुलासा हुआ है कि ढाई सौ करोड़ से ज्यादा के असल कारोबार को कागजों पर दस गुना कम दिखाकर टैक्स चोरी की जा रही थी।

डायरेक्टोरेट जनरल ऑफ गुड्स एंड सर्विस टैक्स इंटेलिजेंस (डीजीजीआई) के मप्र के साथ गुजरात के अधिकारी कार्रवाई में शामिल हैं। निशाने पर इंदौर की मायकिंगडम, राजशाही, साईंबाबा फूड्स, धारा इंटरप्राइजेस, प्रियम फूड्स कंपनियां आई हैं। ये शहर में खातीवाला टैंक, द्वारकापुरी, पीपल्यापाला, पालदा, राऊ क्षेत्र सहित 9 स्थानों पर फैक्टरियों में टॉफी-चॉकलेट बनाकर देश के विभिन्न राज्यों में बेच हैं। विभागीय सूत्रों के मुताबिक राजेश छोड़वानी, दीपक (बाबा) छोड़वानी, संजय छोड़वानी, सनी छोड़वानी कंपनियों के संचालक हैं। प्रारंभिक जांच में खुलासा हुआ है कि कुछ फैक्टरियां बिना लायसेंस के और रहवासी क्षेत्रों में चल रही हैं।

टीम संचालकों के घरों पर दस्तावेजों की पड़ताल कर रही है। भोपाल, अहमदाबाद, बेंगलुरु और हैदराबाद में भी कार्रवाई की जा रही है। अन्य प्रदेशों में जांच के दायरे में आए कारोबारी कंपनी के डिस्ट्रिब्यूटर और रॉ मटेरियल सप्लायर बताए जा रहे हैं। विभागीय सूत्रों के मुताबिक बीते दिनों पीथमपुर की एक पैकेजिंग कंपनी पर छापा मारा गया था। इस दौरान पता चला था कि अवैध तरीके से ग्रुप की कनफेक्शनरी फैक्टरियों को माल सप्लाय किया जा रहा है। इसके बाद जांच को आगे बढ़ाते हुए ताजा कार्रवाई की गई।

फैक्टरी हुई थी सील

समूह की एक फैक्टरी पर बीते दिनों प्रशासन की कार्रवाई भी हुई थी। एडीएम ने बिना लायसेंस और अन्य अनियमितताओं के कारण उसे सील कर दिया था। बीते साल वाणिज्यिक कर विभाग की एंटी इवेजन विंग ने भी समूह पर छापा मारा था। संचालकों में शामिल दीपक बाबा भाजपा नेता और पूर्व विधायक के करीबी बताए जा रहे हैं।