इधर भिंड जनपद अध्यक्ष ने अविश्वास में कुर्सी गंवाई, उधर पति घर से गिरफ्तार

भिंड। भिंड जनपद अध्यक्ष संजू जाटव के खिलाफ लाया गया अविश्वास प्रस्ताव पारित हो गया। अध्यक्ष को हटाने के लिए 22 सदस्यों ने वोट डाले। अध्यक्ष के पक्ष में खुद संजू जाटव सहित तीन सदस्यों ने मतदान किया। जनपद में कुल 25 सदस्य हैं। कुर्सी गंवाने के बाद अध्यक्ष जैसे ही घर पहुंचीं पुलिस ने समाज विशेष के लोगों के भड़काने के आरोप में उनके पति गजराज जाटव को गिरफ्तार कर लिया।

रविवार को शहर में बायपास स्थित जनपद पंचायत कार्यालय में भिंड जनपद पंचायत अध्यक्ष संजू जाटव के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव लाने के लिए सम्मेलन बुलाया गया। सम्मेलन में 25 जनपद सदस्यों से वोटिंग कराई गई। इसमें 22 सदस्यों ने अध्यक्ष के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव लाकर उन्हें हटाने के लिए वोटिंग की। जबकि 3 सदस्यों (इसमें जनपद अध्यक्ष का वोट भी शामिल) ने अध्यक्ष नहीं हटाने के लिए मत डाला। वोटिंग के बाद जनपद अध्यक्ष ने अपनी कुर्सी गंवा दी।

ऐसे चला घटनाक्रम

पीठासीन अधिकारी भिंड एसडीएम संतोष तिवारी के निर्देशन में विशेष सम्मेलन बुलाया गया। सम्मेलन में 12 बजे तक 24 सदस्य जनपद कार्यालय में पहुंच गए। पुलिस ने कड़ी चेकिंग और पहचान के बाद सदस्यों को अंदर जाने दिया। 12 बजकर 8 मिनट पर जनपद अध्यक्ष संजू जाटव पहुंची। सदस्यों की संख्या पूरी होते ही पीठासीन अधिकारी श्री तिवारी ने सभी सदस्यों से कहा कि अविश्वास प्रस्ताव लाने के लिए उन्हें किस प्रकार मतदान करना है। मतदान के दौरान जनपद अध्यक्ष को हटाने के लिए मतपत्र पर राइट निशान और समर्थन के लिए क्रॉस बनाना था।

31 मिनट में अध्यक्ष ने कुर्सी गंवाई

पीठासीन अधिकारी श्री तिवारी ने 12.34 मिनट पर वोटिंग शुरू कराई। मतदान शुरू होते ही जनपद अध्यक्ष संजू जाटव ने पहला वोट मतपेटी में डाला। एसडीएम ने बंद कमरे में सभी सदस्यों से वोटिंग कराई। सदस्यों के वोटिंग के बाद 12.55 मिनट पर सभी सदस्यों के सामने पीठासीन अधिकारी ने मतपेटी को खोलकर मतगणना कराई।

इसमें 22 मत जनपद अध्यक्ष को हटाने के लिए मिले। जबकि 3 मत उन्हें अध्यक्ष बनाए रखने के लिए मिले। 1.05 बजे पीठासीन अधिकारी ने घोषणा कर बताया कि अविश्वास प्रस्ताव में अध्यक्ष को हटाने के लिए 22 सदस्य सहमत हैं। जबकि संजू जाटव को अध्यक्ष बनाए रखने के लिए 3 सदस्यों का समर्थन मिला है।

कुर्सी जाते ही पुलिस पति को किया गिरफ्तार

जनपद पंचायत में अध्यक्ष की कुर्सी गंवाते ही सिटी कोतवाली और देहात पुलिस चंदनपुरा स्थित श्रीमती जाटव के निवास पर पहुंची और उनके पति गजराज सिंह को गिरफ्तार कर लिया। सीएसपी वीएस तोमर के मुताबिक शहर में पिछले दिनों 2 समुदाय के बीच हुए विवाद के दौरान गजराज जाटव ने भड़काऊ भाषण दिया था। इस मामले में वार्ड 39 के पार्षद मुकेश गर्ग सहित अन्य लोगों पर मामला दर्ज किया था। बाद में गजराज जाटव को भी इसमें आरोपी बनाया गया था। इसी मामले में गजराज जाटव को गिरफ्तार किया गया है।

इनका कहना है

मेरे खिलाफ भाजपा के बड़े नेताओं के इशारे पर अविश्वास प्रस्ताव लाया गया है। हमने कुर्सी बचाने के लिए भोपाल में कई नेताओं से गुजारिश की थी, लेकिन किसी ने मदद नहीं की है। साथ ही अध्यक्ष बनने के बाद सदस्य गलत काम के लिए दबाव बनाते थे। हमने गलत काम नहीं किए इसलिए यह नौबत आई है।

संजू जाटव, जनपद सदस्य

अध्यक्ष के सदस्यों के प्रति व्यवहार अच्छा नहीं था। साथ ही उनके पति भी सदस्यों से गलत तरीके से बात करते थे। अध्यक्ष ने हम सदस्यों का कोई भी काम नहीं किया है। काम नहीं होंगे तो हम जनता के सामने किस मुंह से वोट मांगने जाएंगे।

शिवनारायण सिंह, जनपद उपाध्यक्ष भिंड

रविवार को जनपद में विशेष सम्मेलन बुलाया गया था। इसमें अध्यक्ष को हटाने के लिए 22 वोट मिले हैं। जबकि समर्थन में 3 मत मिले थे। हम आगे की कार्रवाई के लिए प्रस्ताव कलेक्टर व जिला पंचायत सीईओ और जनपद सीईओ को भेजेंगे।

संतोष तिवारी, एसडीएम व पीठासीन अधिकारी