राज्यपाल आनंदीबेन का फरमान, TB पीड़ित बच्चों को गोद लें कुलपति-रजिस्ट्रार

भोपाल : राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने फरमान सुनाया है कि टीबी मुक्त अभियान में अपनी सक्रिय भागीदारी निभाते हुए जिला कलेक्टरों के सहयोग से विवि के कुलपति, रजिस्ट्रार और प्रोफेसर 18 साल से कम आयु के एक-एक टीबी रोगी बच्चे को गोद लें और पीड़ित बच्चे तक पौष्टिक आहार फल, गुड़ और दाल पहुंचाएं।

वहीं, राज्यपाल ने कहा कि कॉलेजों के परीक्षा परिणाम समय से घोषित कर दिए जाएं ताकि आगामी शिक्षण सत्र के लिए एक जुलाई तक प्रवेश प्रक्रिया पूरी कर ली जाए। उन्होंने कुलपतियों से कहा कि कॉलेज में पहली बार प्रवेश लेने वाले विद्यार्थियों के लिए स्वागत समारोह आयोजित करें। राज्यपाल ने कहा कि विवि और महाविद्यालयों में एडमिशन लेने वाले अनुसूचित जाति-जनजाति के छात्र-छात्राओं से प्रवेश पंजीयन शुल्क नहीं लिया जाए।

‘गांवों में छात्रों से 100 घंटे स्वच्छता पर कराएं काम’
राज्यपाल ने कहा कि गांवों में 100 घंटे स्वच्छता के लिए काम करने के लिए सभी विश्वविद्यालय ग्रीष्मकालीन योजना तैयार करें। इस दौरान छात्र-छात्राओं से स्वच्छता और शौचालयों की आवश्यकता पर निबंध और नाटक लिखवाएं जाए, प्रतियोगिताएं आयोजित कराएं और विजेता छात्र-छात्राओं को केन्द्र, राज्य सरकार और विश्वविद्यालय की ओर से पुरस्कार राशि दी जाए। स्वच्छता जागरूकता कार्यक्रम में किए गए कार्यों को वेबसाइट पर अपलोड कर केन्द्र और राज्य सरकार के विभागों को भेजा जाए।